Friday, March 1, 2024
25.1 C
Delhi
Friday, March 1, 2024
- Advertisement -corhaz 3

मध्य प्रदेश के मंत्रिमंडल में हुआ विस्तार | गौरीशंकर समेत तीन नए चेहरों ने ली शपथ |

मप्र विधानसभा चुनावों से तीन महीने पहले शिवराज कैबिनेट का विस्तार होने जा रहा है। राज्यपाल मंगुभाई पटेल से मुलाकात के बाद शनिवार सुबह 8.45 बजे तीन नए चेहरों को शपथ दिलाई |

मंत्रिमंडल विस्तार के लिए राज्यपाल मंगुभाई पटेल और सीएम शिवराज सिंह चौहान मंच पर एक साथ पहुंचे। मंच पर गौरीशंकर बिसेन, राहुल लोधी और राजेंद्र शुक्ल भी थे। राष्ट्रगान के बाद राज्यपाल पटेल ने तीनों को शपथ दिलाई। नए मंत्रियों में सबसे पहले महाकौशल से गौरीशंकर बिसेन, विंध्य से राजेंद्र शुक्ला और बुंदेलखंड से राहुल लोधी ने शपथ ली। शिवराज कैबिनेट में अब 33 मंत्री हो गए हैं। 1 पद अब भी खाली है।

पहली शपथ लेने वाले गौरीशंकर बिसेन ने कहा कि हमारी प्राथमिकता तो राज्य का चहुंमुखी विकास और जनकल्याण है। माननीय मुख्यमंत्री की व्यस्तता के कारण दो-तीन मंत्रिमंडल का विस्तार टला है। लेकिन आखिर में हो गया न। समय कम होने की बात पर बिसेन ने कहा कि आप देखते जाइए, सब बढ़िया होगा।

राजेंद्र शुक्ल ने कहा कि जितना समय है, चूंकि चलती हुई सरकार है। विधायक के नाते भी हम लोग काम कर ही रहे हैं। तो चीजों को और तेज गति देने में निश्चित रूप से मदद मिलेगी। जितनी भी हमारी विकास की योजनाएं हैं और जनकल्याण के कार्यक्रम हैं, वो नीचे तक पहुंचें, इसकी मॉनिटरिंग ज्यादा बेहतर तरीके से करने में हम लोग सक्षम रहेंगे। पार्टी की जो अपेक्षा है, उसको पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। शुक्ल ने कहा कि पार्टी कई पहलुओं पर विचार कर निर्णय लेती है। पार्टी जो जिम्मेदारी देती है, विचार कर देती है तो उसे स्वीकार आगे बढ़ना चाहिए।

राहुल सिंह लोधी एक बार के विधायक हैं। वह 2018 में खरगापुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव जीते। राहुल पूर्व सीएम उमा भारती के भतीजे हैं। बुंदेलखंड और ग्वालियर चंबल में बड़ी संख्या में लोधी वोटर हैं। राहुल लोधी को मंत्री बनाकर भाजपा बुंदेलखंड के साथ ही ओबीसी वोटर को साध रही है। 

कमलनाथ ने बताया- भ्रष्टाचार की मित्रमंडली का विस्तार
शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार पर पीसीसी चीफ कमलनाथ ने निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि जब कार्यकाल हो रहा है समाप्त और गिरने वाली है सरकार, तब मप्र में मंत्रिमंडल का हो रहा है विस्तार! विदाई के समय स्वागत गीत गाने वाली भाजपा सरकार अब विस्तार क्या पूरा मंत्रिमंडल भी बदल दे तो भी हार निश्चित है। ये मंत्रिमंडल नहीं, भ्रष्टाचार की मित्रमंडली का विस्तार है।

MP Cabinet Expansion: शिवराज मंत्रिमंडल में तीन नए नाम, गौरीशंकर बिसेन-राजेंद्र शुक्ल-राहुल लोधी ने ली शपथ

शिवराज कैबिनेट का विस्तार सुबह शनिवार सुबह 8.45 बजे होगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार देर रात राज्यपाल मंगूभाई पटेल से मुलाकात की। शिवराज मंत्रिमंडल में 35 में से चार पद खाली हैं। अभी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के अलावा 30 मंत्री हैं। अब चुनाव आचार संहिता लगने के करीब डेढ़ महीने पहले तीन नए चेहरों राजेंद्र शुक्ल, गौरी शंकर बिसेन और राहुल लोधी को शपथ दिलाने की चर्चा है। इससे सरकार जातिगत, क्षेत्रीय समीकरण साधने के साथ ही नाराजगी दूर करना चाहती है। कहा जा रहा है कि लोधी को राज्यमंत्री बनाया जाएगा, बाकी दोनों को कैबिनेट मंत्री की शपथ दिलाई जाएगी। चौथे स्थान को लेकर पार्टी नेताओं का सोच किसी आदिवासी या अनुसूचित जाति के विधायक को शपथ दिलाने का था, लेकिन किसी एक नाम पर सहमति नहीं बनी। 

विंध्य से हैं राजेंद्र शुक्ल  
पूर्व मंत्री और रीवा विधायक राजेंद्र शुक्ल फिर मंत्री बनने जा रहे हैं। रीवा में जन्मे शुक्ल ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है। वे 2003 में विधानसभा चुनाव जीत कर राजनीति में सक्रिय हुए। इसके बाद 2008 और 2013 में विधानसभा चुनाव जीता। 2013 में शुक्ल मंत्री बने। 2018 में भी चुनाव जीते। शुक्ला विंध्य में पार्टी का बड़ा ब्राह्मण चेहरा हैं। पार्टी को आगामी विधानसभा चुनाव में विंध्य में कांग्रेस से कांटे की टक्कर मिलती दिख रही है। आम आदमी पार्टी भी कड़ी टक्कर दे रही है। सिंगरौली महापौर सीट पार्टी के हाथ से निकल गई। इसे क्षेत्र में पार्टी के प्रति नाराजगी के रूप में देखा जा रहा है। सर्वे रिपोर्ट में भी पार्टी की स्थिति ठीक नहीं है। ऐसे में अब शुक्ल को मंत्री बनाकर पार्टी क्षेत्र की जनता को साधने की कोशिश में है। 

महाकौशल में बिसेन के जरिए ओबीसी कार्ड 
पूर्व मंत्री और विधायक गौरीशंकर बिसेन अन्य पिछड़ा वर्ग से आते हैं। अभी वे मध्य प्रदेश पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष भी हैं। 1952 में गौरीशंकर बिसेन का जन्म बालाघाट में हुआ। गौरीशंकर बिसेन ने सात बार विधायक और लोकसभा का चुनाव जीता है। बिसेन ने 1985 में विधानसभा का चुनाव जीत कर राजनीतिक सफर की शुरुआत की। इसके बाद 1990 और 1993 में बालाघाट से लगातार तीन बार विधानसभा चुनाव जीता। 1998 में उनकी पत्नी बालाघाट से विधानसभा चुनाव लड़ी, लेकिन हार गई। बिसेन ने लोकसभा चुनाव लड़ा और जीते। इसके बाद वे 2003 से बालाघाट सीट से लगातार विधानसभा चुनाव जीतते आ रहे हैं। महाकौशल में बड़ी संख्या में ओबीसी वोटर हैं। बिसेन को मंत्री बनाकर ओबीसी वर्ग को साधने की रणनीति बनाई जा रही है। 

लोधी के जरिए बुंदेलखंड जीतने की रणनीति 
राहुल सिंह लोधी एक बार के विधायक हैं। वह 2018 में खरगापुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव जीते। राहुल पूर्व सीएम उमा भारती के भतीजे हैं। बुंदेलखंड और ग्वालियर चंबल में बड़ी संख्या में लोधी वोटर हैं। राहुल लोधी को मंत्री बनाकर भाजपा बुंदेलखंड के साथ ही ओबीसी वोटर को साध रही है। 

More articles

- Advertisement -corhaz 300

Latest article

Trending