Thursday, April 18, 2024
34 C
Delhi
Thursday, April 18, 2024
- Advertisement -corhaz 3

दिल्ली में प्रदुषण का स्तर खराब श्रेणी में जाने की सम्भावना | उत्तर पश्चिम की ओर हवाएं चलने की आशंका |

दिल्ली में प्रदूषण का स्तर आज से खराब श्रेणी में पहुंच सकता है। आशंका जाहिर की जा रही है कि हवाओं की दिशाएं उत्तर-पश्चिम और दक्षिण-पश्चिम से बदलकर सिर्फ उत्तर-पश्चिम हो सकती है। गति भी घटकर 12 किमी प्रतिघंटा तक रह सकती है।

मंगलवार को दिल्ली में 16 किमी की गति से हवाएं चली। हल्की हवाओं के कारण प्रदूषण के स्तर में मामूली बढ़त दर्ज की गई। भारतीय उष्णकटिबंधीय मौसम विज्ञान संस्थान के मुताबिक, हवाओं के रुख में आए मामूली बदलाव के कारण मंगलवार को दिल्ली के प्रदूषण सूचकांक में मामूली बढ़त हुई। सोमवार को दिल्ली का प्रदूषण सूचकांक 175 दर्ज किया गया था, जो मंगलवार को बढ़कर 180 हो गया, जोकि मध्यम स्तर है। 

बुधवार को यह बढ़कर 200 पार जा सकता है, जो खराब श्रेणी रहेगी। संस्थान के मुताबिक, मंगलवार को वायु गुणवत्ता मध्यम श्रेणी में रही। 13 अक्तूबर तक वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी के निचले स्तर पर रहने की आशंका है। अगले छह दिन में वायु गुणवत्ता खराब से मध्यम श्रेणी में रह सकती है। 

दिल्ली में मंगलवार को प्रमुख सतही हवाएं पश्चिम उत्तर-पश्चिम/दक्षिण-पश्चिम दिशाओं से 16 किमी प्रतिघंटे चली। वहीं बुधवार को साफ आसमान और धुंध के साथ दिल्ली में मुख्य सतही हवा 04-12 किमी प्रति घंटे की गति से उत्तर-पश्चिम दिशाओं से चल सकती है। वहीं मंगलवार को अनुमानित अधिकतम मिक्सिंग हाइट 3350 मीटर रही।

मंत्री ने किया एनबीसीसी प्रोजेक्ट का निरीक्षण, मिलीं अनियमितताएं
दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के स्तर के साथ धूल प्रदूषण को लेकर हो रही लापरवाही पर सरकार सख्त है। मंगलवार को चलाए गए एंटी डस्ट कैंपेन के तहत पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कड़कड़डूमा स्थित एनबीसीसी प्रोजेक्ट का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने निर्माण स्थल पर धूल नियंत्रण से संबंधित कई अनियमितताएं पाईं। मौके पर ही उन्होंने डीपीसीसी को निर्माण एजेंसी को नोटिस जारी करने का निर्देश दिया। अगर संतोषजनक जवाब नहीं मिलता है तो जुर्माना लगाया जाएगा। 

पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि कंस्ट्रक्शन साइटों पर डस्ट कंट्रोल के लिए जारी 14 नियमों को लागू करना आवश्यक है। इसका उल्लंघन करने पर कार्रवाई की जाएगी। अधिकारियों को निर्माण साइट्स का लगातार निरीक्षण का निर्देश दिया गया है। एनबीसीसी प्रोजेक्ट स्थल का निरीक्षण करने के बाद गोपाल राय ने कहा कि निर्माण साइट पर पर्यावरण के नियमों का सही से पालन नहीं किया जा रहा है। 

स्कूलों में बढ़ेगा हरित क्षेत्र, पानी   का होगा छिड़काव
 राजधानी में वायु की गुणवत्ता धीरे-धीरे खराब होने लगी है। यह स्थिति गंभीर न हो, इसलिए प्रदूषण नियंत्रण के लिए स्कूलों में भी विंटर एक्शन प्लान लागू किया जाएगा। इस प्लान के तहत स्कूलों में हरित क्षेत्र को बढ़ाया जाएगा, प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए जागरूकता कार्यक्रम होंगे और स्कूल परिसर में पानी का छिड़काव किया जाएगा। इसके साथ ही बच्चों को पटाखे नहीं जलाने के लिए जागरूक किया जाएगा। 

शिक्षा निदेशालय ने सभी सरकारी, सरकारी सहायता प्राप्त व निजी स्कूलों को एक्शन प्लान लागू करने के लिए जरूरी कदम उठाने और इस संबंध में रिपोर्ट भेजने के निर्देश दिए हैं। एक्शन प्लान के माध्यम से शिक्षा निदेशालय ने स्कूलों के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। स्कूलों को निर्देशित किया है कि उन्हें वायु प्रदूषण को नियंत्रित करने और वायु गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए विभिन्न गतिविधियां आयोजित करनी होंगी। इनमें स्कूलों में पानी का छिड़काव, पटाखे नहीं जलाने के लिए जागरूक करना, स्कूल में हरित क्षेत्र को बढ़ाना, प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए जागरूकता अभियान चलाना और ग्रैप की योजना लागू करना शामिल है। 

More articles

- Advertisement -corhaz 300

Latest article

Trending