Wednesday, July 28, 2021
27.1 C
Delhi
Wednesday, July 28, 2021
- Advertisement -corhaz 3

जॉर्ज फ़्लॉयड की हत्या के आरोपी पुलिस अधिकारी डेरेक शॉविन को साढ़े 22 साल जेल की सज़ा

अमेरिका की एक अदालत ने अफ्रीकी मूल के अमेरिकी नागरिक जॉर्ज फ़्लॉयड की पिछले साल हुई मौत के मामले में पूर्व पुलिस अधिकारी डेरेक शॉविन को हत्या का दोषी क़रार देते हुए 22 साल और छह महीने के लिए जेल की सज़ा सुनाई है.

न्यायाधीश ने अपना फ़ैसला सुनाते हुए कहा कि पूर्व पुलिस अधिकारी डेरेक शॉविन की सज़ा “अपने पद और अधिकार का ग़लत इस्तेमाल करने” और “मुख्य तौर पर जॉर्ज फ़्लॉयड के साथ उनके क्रूर व्यवहार” को देखते हुए तय की गई है.

45 साल के डेरेक शॉविन पर आरोप लगाया गया था कि पिछले साल मई में मिनेपोलिस में उन्होंने एक निहत्थे और काले व्यक्ति जॉर्ज फ़्लॉयड की गर्दन को नौ मिनट तक अपने घुटने से दबाकर रखा था.

इसके कुछ ही मिनटों बाद उनकी मौत हो गई थी. यह मामला तब चर्चा में आया जब इस घटना का वीडियो पूरी दुनिया में वायरल हो गया. इस वीडियो के सामने आने के बाद अमेरिका सहित पूरी दुनिया में नस्लवाद और पुलिस के बुरे व्यवहार के ख़िलाफ़ जमकर विरोध प्रदर्शन हुए थे.

अमेरिकी जूरी ने अप्रैल महीने में ही शॉविन को दूसरी डिग्री की हत्या और अन्य कई मामलों में दोषी क़रार दिया था. हालांकि शॉविन के बचाव में उनके वकील का कहना था कि उन्होंने किसी बुरे इरादे से ऐसा नहीं किया. उनकी दलील थी कि यह एक भूल थी जिसके पीछे कोई दुर्भावना नहीं थी.

शॉविन के आजीवन हथियार रखने पर भी रोक लगा दी गई है.

उनके साथ ही तीन अन्य पूर्व पुलिस अधिकारियों पर भी जॉर्ज फ़्लॉयड के नागरिक अधिकारों के उल्लंघन के अलग-अलग आरोप हैं.

फ़्लॉयड के परिवार और उनके समर्थकों ने शॉविन को सुनाई गई सज़ा का स्वागत किया है.

वकील बेन क्रंप ने ट्वीट किया है-“यह एक ऐतिहासिक फ़ैसला है. यह फ़्लॉयड के परिवार और इस देश के ज़ख़्म को भरने में मददगार साबित होगा.”

जॉर्ज फ़्लॉयड की बहन ब्रिजेट फ़्लॉयड ने कहा कि यह फ़ैसला दिखाता है कि पुलिस की क्रूरता के मामलों को गंभीरता से लिया जा रहा है. हालांकि उन्होंने यह ज़रूर कहा कि अभी एक लंबा रास्ता तय किया जाना बाक़ी है.

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा कि यह फ़ैसला “उचित लग रहा” लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें इस संबंध में पूरी जानकारी नहीं है.

सज़ा पर सुनवाई के दौरान क्या हुआ?

सज़ा की सुनवाई के दौरान फ़्लॉयड के भाई टेरेंस फ़्लॉयड ने अधिकतम 40 साल की सज़ा की मांग की थी.

सुनवाई के दौरान उन्होंने कहा, “क्यों? तुम क्या सोच रहे थे? उस वक़्त तुम्हारे दिमाग़ में क्या चल रहा था जब तुमने अपना घुटना उसकी गर्दन पर रख रखा था?”

सुनवाई के दौरान फ़्लॉयड की बेटी का एक वीडियो भी दिखाया गया. जिसमें सात साल की जियाना कह रही है कि वह अपने पिता को याद करती है और वह उनसे प्यार करती है.

इस रिकॉर्डेड वीडियो में वह कह रही हैं, “मैं हर समय उनके बारे में पूछती रहती हूं. मेरे पिता मुझे ब्रश करने में मदद किया करते थे.”

न्यायाधीश ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि यह हादसा देश और समाज के लिए दर्दनाक था लेकिन सबसे अधिक दुख जॉर्ज फ़्लॉयड के परिवार ने उठाया है.

न्यायाधीश पीटर काहिल ने कहा कि यह सज़ा का यह फ़ैसला किसी भावना या फिर सहानुभूति से प्रभावित नहीं हैं लेकिन फिर भी उस दर्द को नज़रअंदाज़ नहीं किया जा सकता है जो ये सभी परिवार महसूस कर रहे हैं और ख़ासतौर पर फ़्लॉयड परिवार.

जॉर्ज फ़्लॉयड के साथ क्या हुआ था?

46 वर्षीय जॉर्ज फ़्लॉयड ने 25 मई, 2020 की शाम को दक्षिण मिनेपोलिस की एक दुकान से सिगरेट का एक पैकेट ख़रीदा था.

दुकान पर काम करने वाले एक स्टाफ़ का मानना था कि फ़्लॉयड ने उसे 20 डॉलर का नकली नोट दिया था, इसलिए वह बेचे गए सिगरेट के पैकेट को वापस मांग रहा था. लेकिन जॉर्ज फ़्लॉयड ने ऐसा करने से इनकार कर दिया. इसके बाद दुकान के स्टाफ़ ने पुलिस को फ़ोन कर दिया. इसके बाद दुकान पर पुलिस आ गई.

जब पुलिस पहुँची तो उसने फ़्लॉयड को उनकी कार से बाहर निकलने का आदेश दिया और उन्हें हथकड़ी लगा दी. इसके बाद पुलिस अधिकारियों ने जब अपनी गश्त लगाने वाली कार में फ़्लॉयड को बिठाना चाहा तो वहां टकराव शुरू हो गया. फ़्लॉयड पुलिस के साथ जाना नहीं चाह रहे थे. ऐसे में डेरेक शॉविन नाम के पुलिस अधिकारी ने फ़्लॉयड को ज़मीन पर पटक दिया और उसके चेहरे को अपने घुटने के नीचे दबा दिया.

बताया गया कि शॉविन ने करीब नौ मिनट तक फ़्लॉयड की गर्दन पर अपने घुटने को दबाए रखा. कई लोगों ने पूरी घटना का वीडियो बना लिया. इस दौरान फ़्लॉयड और वहां मौजूद लोगों ने भी उनको छोड़ देने की अपील की. घुटने के नीचे दबे फ़्लॉयड ने 20 से ज्यादा बार कहा कि उसे साँस लेने में दिक्कत हो रही है. उसने अपनी मां की दुहाई देते हुए छोड़ देने की अपील की लेकिन पुलिस अफ़सर ने उसे नहीं छोड़ा.

थोडी देर में जॉर्ज फ़्लॉयड वहां अचेत हो गए. इसके बाद वहां एंबुलेंस को बुलाया गया जिसने फ़्लॉयड को अस्पताल पहुंचाया. लगभग एक घंटे बाद अस्पताल में उन्हें मृत घोषित कर दिया गया.

More articles

- Advertisement -corhaz 300

Latest article

Trending