Wednesday, July 28, 2021
27.1 C
Delhi
Wednesday, July 28, 2021
- Advertisement -corhaz 3

जानें भारत में छपे पहले अखबार ‘बंगाल गजट’ की कहानी

हिक्की का बंगाल गजट (Hicky’s Bengal Gazette) एशिया और भारत से पब्लिश होने वाला पहला अंग्रेजी अखबार था। आज ही के दिन 29 जनवरी 1779 को कलकत्ता से इसका पब्लिकेशन शुरू हुआ था। इसके एडिटर जेम्स ऑगस्टस हिक्की थे और न्यूजपेपर की भाषा ब्रिटिश इंग्लिश थी। भारत में न्यूजपेपर निकालने का पहला कॉन्सेप्ट डच एडवेंचरर विलियम बोल्ट्स ने दिया था, लेकिन हिक्की इस कॉन्सेप्ट को अमल में लाने वाले पहले शख्स थे। ये न्यूजपेपर हर शनिवार को पब्लिश होने वाला वीकली एडिशन था। इसकी कीमत 1 रुपए थी। अखबार का सर्कुलेशन 400 से ज्यादा था।

शुरुआत में हिक्की ने इस न्यूजपेपर की पॉलिसी न्यूट्रल रखी। न्यूजपेपर का स्लोगन था- सभी पार्टियों के लिए ओपन है, लेकिन किसी से प्रभावित नहीं है (Open to all Parties, But Influenced by none.)। ईस्ट इंडिया कंपनी ने इस अखबार को एक चुनौती के तौर पर लिया और इंडियन गजट नाम से नया अखबार निकाला। इसके बाद हिक्की ने भी अपने न्यूजपेपर की पॉलिसी बदल दी। हिक्की ने ईस्ट इंडिया कंपनी के कर्मचारी साइमन रोज पर इंडिया गजट को सपोर्ट करने का आरोप लगाया। उनका कहना था कि साइमन रोज इंडियन गजट को सपोर्ट कर रहे हैं, क्योंकि उन्होंने रोज और वॉरेन हेस्टिंग्स की पत्नी मेरियन हेस्टिंग्स को रिश्वत देने से मना कर दिया।

हिक्की के बंगाल गजट पर बैन लगा

इस आरोप के जवाब में हेस्टिंग्स ​​​​​की सुप्रीम काउंसिल ने हिक्की के अखबार को पोस्ट ऑफिस के जरिए भेजने पर रोक लगा दी। 18 नवंबर 1780 को पहला इंडिया गजट पब्लिश हुआ। हेस्टिंग्स के फैसले पर हिक्की ने फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन पर बैन और हेस्टिंग्स समेत दूसरे लोगों पर करप्शन के आरोप लगाए। हिक्की पर कानूनी शिंकजा बढ़ता गया और 4 ट्रायल के बाद सुप्रीम कोर्ट ने आरोपी मानते हुए जेल की सजा सुना दी। हिक्की जेल से ही पेपर निकालते रहे। इसके बाद 30 मार्च 1782 को बंगाल गजट पर पूरी तरह से बैन लगा दिया गया। कुछ हफ्ते बाद प्रिंटिंग प्रेस और पूरे पब्लिकेशन की सरकार ने नीलामी कर दी और इसे इंडियन गजट ने खरीद लिया।

भारत के पूर्व रक्षामंत्री जॉर्ज फर्नांडिस का निधन हुआ था

मजदूर नेता से देश के शीर्ष मंत्रालय की जिम्मेदारी बखूबी संभालने वाले जॉर्ज फर्नांडिस का आज ही के दिन 2019 में निधन हो गया था। आज उनकी पुण्यतिथि है। 1967 से 2004 तक 9 बार चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंचे फर्नांडिस का जन्म 3 जून 1930 को कर्नाटक के मंगलौर में हुआ था। इसके अलावा वे 2009 से 2010 तक बिहार से राज्यसभा सांसद भी रहे। अटल सरकार में 1998 से 2004 तक रक्षामंत्री रहे। कारगिल युद्ध और पोखरण परमाणु विस्फोट उन्हीं के कार्यकाल के दौरान हुआ था। हालांकि, ताबूत घोटाले मामले में उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। जनता दल के मुख्य सदस्य में से एक थे। उन्होंने समता पार्टी की स्थापना की थी। अपने पॉलिटिकल करियर में जॉर्ज फर्नांडिस ने रक्षा के अलावा रेलवे, उद्योग, संचार जैसे अहम मंत्रालय भी संभाले थे।

More articles

- Advertisement -corhaz 300

Latest article

Trending