Wednesday, July 6, 2022
31.1 C
Delhi
Wednesday, July 6, 2022
- Advertisement -corhaz 3

सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिलने के बाद आज़म खान हुए रिहा |

812 दिन बाद सपा विधायक आजम खां सीतापुर जेल से रिहा हो गए हैं। आजम खां सुबह 8:06 जेल से बाहर आए। गुरुवार की देर रात करीब 12 बजे सपा विधायक का रिहाई आदेश जेल प्रशासन को प्राप्त हुआ था। उधर, आजम की रिहाई की खबर पर उनके समर्थकों की भीड़ सुबह पांच बजे से ही जेल गेट के पास जुटने लगी थी। आजम खां के बड़े बेटे अदीब आजम सबसे पहले जेल पहुंचे।

विधायक आशु मालिक और अब्दुल्ला आजम भी सीतापुर जेल पहुंच गए। अब्दुल्ला आजम 6:55 बजे जेल के अंदर गए। रामपुर, लखनऊ व अन्य स्थानों के समर्थक सीतापुर पहुंचे हैं। गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने सपा विधायक आजम खां की अंतरिम जमानत मंजूर की थी। जमानत मंजूर होने के बाद से ही उनके रिहाई आदेश का इंतजार हो रहा था। गुरुवार की देर शाम तक रिहाई परवाना न मिलने की वजह से उनकी रिहाई नहीं हो सकी थी।

सात बजे सीतापुर जेल पहुंचे शिवपाल : प्रसपा (प्रगतिशील समाजवादी पार्टी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल यादव भी सीतापुर जेल पहुंचे। उनकी गाड़ी सुबह सात बजे जेल परिसर में दाखिल हुई। जेल गेट पर कई थानों की पुलिस लगाई गई। आजम की रिहाई को लेकर पुलिस प्रशासन मुस्तैद दिखा। शहर के सभी इंट्री प्वाइंट पर तैनात पुलिसकर्मी आने जाने वाली सभी गाड़ियों की जांच करते दिखे। वैदेही वाटिका, आरएमपी मोड़, बहुगुणा चौराहा, रोडवेज, जीआइसी चौराहा व काशीराम कालोनी के पास पुलिस मुस्तैद दिखी। जेल रोड पर कई थानों की पुलिस लगी थी।

पूर्व विधायक अनूप गुप्ता के घर रुके : जेल से रिहा होने के बाद सपा विधायक आजम खां महोली के पूर्व विधायक अनूप गुप्ता के आवास पर पहुंचे हैं। अनूप गुप्ता का घर जेल से बमुश्किल 100 मीटर की दूरी पर है। यहां करीब आधा घंटे रुकने के बाद वह सीतापुर से रामपुर के लिए रवाना हो गए।

फरवरी 2020 से सीतापुर जेल में बंद थे आजम खां : सपा विधायक आजम खां को 27 फरवरी 2020 में सीतापुर जेल में शिफ्ट किया गया था। पत्नी तजीन फात्मा व बेटा अब्दुल्ला आजम भी सीतापुर जेल भेजे गए थे। करीब 10 माह बाद पत्नी तजीन फात्मा को जमानत मिल गई थी। अब्दुल्ला आजम 15 जनवरी 2022 को रिहा हुए थे। जमानत मिलने के बाद आजम खां करीब 27 महीने बाद रिहा हो रहे हैं।

जेल में रहकर बने विधायक : जिला जेल में बंद आजम खां ने विधानसभा चुनाव भी जेल से ही लड़ा। चुनाव जीतकर वह रामपुर सदर सीट से विधायक बने। बीते माह सपा विधायक से नेताओं की मुलाकात खासी चर्चा में रही। प्रसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल यादव की मुलाकात के बाद कांग्रेस नेता प्रमोद कृष्णम भी जिला जेल पहुंचे थे। आजम खां ने सपा विधायक रविदास मेहरोत्रा से मिलने से मना कर दिया था।

More articles

- Advertisement -corhaz 300

Latest article

Trending